• 157
    0

    आज फिर आसमां पर तारों को चलते देखा है। धीरे-धीरे, धीरे-धीरे, रात को ढलते देखा है। कभी बादलों के ओट में चाँद को छुपते देखा है। ...