• my poetries
    110
    0

    कैसी है यह दुनियाँ रे। लोग यहाँ बानियाँ रे ॥ लाभ लाभ करते हैं । कोई लव नहीं करते हैं॥ आँधी वो तुफनो में। पास नहीं ...