• my poetries
    86
    0

    लगता नहीं है दिल मेरा इस जहान में। जब से जुदा हुई है जान मेरी मेरी जान से॥ कोई गम का नहीं गम था मुझे गम-ए-जहान ...