• mypoetries.com
    164
    0

    एक छोटा सा प्रकाश की  लौ हुँ मैं… जो जगमगा रहा है महल के इक कोने मे| मेरे साथ सैकड़ो लौ जगमगा रहे है… कुछ की ...