• 151
    0

    मेरे  ख़्वाब जो कभी आसमानों मे थे अब ज़मीं पर है। कौन कहता है मै हक़ीक़तों को दरकिनार करता हूँ। बंद लिफाफों पर कलाम उनके अब ...