• myPoetries.com
    172
    0

    जब सूरज की लालिमा, भोर भए दस्तक देती है। घनी अंधेरी रात भी, इक क्षण में नतमस्तक होती है। जब चंद्र की शीलतीलता पर, चांदनी मोहित ...